Wednesday, April 11, 2018

चार लाख साल पुरानी है इंसानों की पहली भाषा

इंसानों की पहली भाषा भौंहें मटकाना ही थी।

असल में यह इंसानों के इंसान बनने से भी पहले की भाषा है। वैज्ञानिकों का एक ताजा शोध तो यहां तक दावा करता है कि भौहों की भाषा ने एक जीव में उस बौद्धिक विकास की नींव रखी जिसकी परिणीति आधुनिक मानव है।

जरनल नेचर इकोलॉजी एंड इवोलुशन में छपे शोध के मुताबिक आज से 6 लाख साल से 2 लाख  साल पहले की अवधि के बीच होमो हीडलबर्जेनसिस में नर मादा और सामुदायिक संवाद भौंहे मटका कर करने की शुरुआत हुई। भौंहें मटकाने से मस्तिष्क पटल की अग्रपंक्ति का विकास शुरू हुआ।

इस क्रमविकास से तीन इंटेलीजेंस प्रजातियां निंडरथल्स, डेनिसोवन्स और आधुनिक मानव विकसित हुए। निंडरथल भी इंसानों की तरह पत्थर के हथियारों का इस्तेमाल करते थे मगर योग्यता की लडा़ई हार गये और 40000 साल पहले लुप्त हो गये।

डेनिसोवन्स भी उसी दौर में खत्म हुए। इंसान का विकास जारी रहा। होमो हीडलबर्जेनसिस के भौंहें मटकाने के प्रयासों ने आज के इंसानों को इतना ताकतवर बनाया।

शायद यही वजह है कि जब दक्षिण की एक फिल्म में नायिका और नायक ने भौंहें मटकाईं तो रातोंरात लोकप्रिय हो गये।
आखिर भौंहें मटकाना हमारे पूर्वजों की पहली भाषा है और हमारे डीएनए को यह झट समझ आती है और दिल को भाती है।

दुनिया के वैज्ञानिक जो बात वर्षों के शोध के बाद जान पाते हैं। वह हम भारतीय पहले से जानते हैं। भौंहों की भाषा बताने में भी हमारे एक फिल्मवाले ने बाजी मार ली।

No comments: