Saturday, January 31, 2009

चाँद कब लोटेगा

राजनेताओं का प्रेम ऐसा ही होता होगा। उन्हें पार्टी बदलने और बीवी बदलने में वक्त नहीं लगता। अब फिजा अपने चाँद को तलाश रही है। चाँद जो महिना भर पहले तक चंद्र मोहन था और हरियाणा का डिप्टी सीएम था यकायक धर्म बदल कर और बीवी बदल कर दुनिया के सामने आ गया। बीवी बदलना शायद ठीक शब्द नही है, असल में उसने पुराणी बीवी को भी नही छोड़ा और अनुराधा बाली से दूसरी शादी रचा ली। हरियाणा कांग्रेश कभी दिग्गज रहे भजन लाल के पुत्र द्वारा यह गुल खिलाये जाने से सभी आश्चर्य चकित थे। समाचार चेनलों के लिए बहुत कम खबरें देने वाला शहर अचानक सुर्खियों में आ गया। हर चेनल पर चाँद और फिजा के इंटरविउ था। सब चटकारे ले रहे थे। अचानक कहानी में फ़िर मोड़ आया। चाँद फिजा को छोड़ कर गायब हो गया। फिजा ने पहले अपने देवर कुलदीप पर ही चाँद के अपहरण का आरोप लगाया। उसके बाद चाँद का फ़ोन आया की वह अपनी मर्जी से गया है तो फिजा और तनाव में दिखी। अगले दिन नींद की गोलिओं के ज्यादा सेवन के चलते वह अस्पताल में थी। मीडिया के लिहाज़ से भी यह कहानी खासा टीआरपी बढ़ाने वाली बन गयी। ऐसे में इस प्रेम कहानी का क्या हश्र होगा यह सब जानते हैं पर मुह कौन खोले। चर्चा तो यह भी है की चाँद फिर चंद्रमोहन बन कर अपने पुराने परिवार में लोट रहा है। हालाँकि पहले उसका कहना था की उसे बचपन से ही इस्लाम से लगाव था इसलिए वह मुसलमान बना। धर्म का इस्तेमाल अपनी सहूलिएत के हिसाब से केसे किया जाता है इसे राजनेता ही जानते हैं। फ़िर चाहे वे भाजपा वाले हों या कांग्रेस वाले। इससे कोई खास फर्क नही पड़ता। सुबह का भूला शाम को घर लौटा है। पर यह चाँद है, यह कब लूटा है बस यह देखना बाकि है।