मित्रो सिर आ गया


दोस्त ही दोस्त के काम आता है। सरदार बल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा का सिर चीन ने भेज दिया है।

 गुजरात चुनाव में मोदी जी का हाल भांप कर मदद के लिए सिर भेजा गया। पीतल का यह सिर सीधे गुजरात भी आ सकता था मगर इसे दिल्ली से सड़कमार्ग से गुजरात भेजा गया है।

प्रतिमा निर्माण का ठेका लार्सन एंड टुब्रो को  3000 करोड़ में दिया गया। L&T को इस में इतना जबर मुनाफा है कि उसने इस काम के लिए चीनी कंपनी जियानेक्सी टोकीन की टीक्यू आर्ट फाउंडरी को दे दिया। तो मित्रो सिर आ गया है और धड़ का ढांचा उधर सरदार सरोवर के पास अधर में है। घुटनों के नीचे के निर्माण में ही 996 करोड़ खर्च हो चुके हैं। 25000 पीतल शीट भी चीन से मंगाये हैं। हजारो चीनियों को वहां रोजगार मिला हुआ है।

बाराडोली का यह नायक आज जिंदा होता तो कहता कि मेरी प्रतिमा पर चीन को पैसा मत लुटाओ। इस पैसे से किसानों का कर्ज माफ करो। उनकी दशा सुधारो। उन्हें आत्महत्या को मजबूर न होने दो।

Comments

Popular posts from this blog

चौकीदार का स्विस एकाउंट

जब जब धर्म को ग्लानि होती है, मैं उसका उत्थान करने स्वयं आता हूं : ईश्वर

कहत कत परदेसी की बात- प्रसंग पहेली का हल