भ्रष्टाचार को नये आयाम

मोदी सरकार ने भ्रष्टाचार को नये आयाम दिए हैं ।  फोर्ब्स की सूची यही बता रही है।

नमामी गंगे, कौशल विकास, स्वच्छ भारत जैसी योजनाएं देश का खजाना चाट गयीं और नतीजा बस यह है कि कुछ नेताओं और उनके चहेतों के ही बारे न्यारे हुए। देश और जनता को कुछ हांसिल न हुआ।

नोटबंदी ने बैंकों में एकदम नये तरह का भ्रष्टाचार पैदा किया। धडा़धड़ नोट बदले गये। नेताओं और उनके दलालों ने कुछ टके के सौदे में सारा कालाधन सफेद किया।

भ्रष्टाचार को स्वीकार्यता अब इतनी बढ़ गयी है कि कैग की रिपोर्ट को मीडिया मेंं जगह देने की जरूरत ही नहीं समझी जाती। व्यापम घोटाला हो या रेल हादसे या दंगे। मोदी जी अपने लोगों पर कार्रवाई की जरूरत नहीं समझते।

अब देखना है कि इस देश को बातों से कब तक बहलाए रखा जा सकता है। नोटबंदी फेल हो गयी है। सरकार फेल रही। फोर्ब्स की सूची ही नहीं मंत्रिमंडल का बदलाव भी इसी बात का गवाह है।

Comments