अंकल सेम की कठपुतलियां

सुधीर राघव
बाबू मोशाय! न तो ये गोभक्त हैं, न राम भक्त, न गंगा भक्त और न ही शिवभक्त !
अरे! ये सब तो अंकल सेम के हाथों की कठपुतलियां हैं रे!
अंकल सेम कहेगा कि सस्ती जेनरिक दवाएं प्रतिबंधित करो हमारी दवा कंपनियों को घाटा होता है तो ये 356 दवाओं की बिक्री रोक देंगे।
अंकल सेम कहेगा कि किसानों और आदिवासियों को सताओ तो जंगल और जमीन छीनने में जुट जाएंगे।
अंकल सेम कहेगा कि पब्लिक को सताओ तो ये कालाबाजारियों को जनता पर छोङ देंगे।
अंकल सेम कहेगा कि मुसलमानों को सताओ तो ये गोभक्त बन जाएंगे।
अंकल सेम कहेगा कि नवाज शरीफ को मनाओ तो ये पांव छूने पाकिस्तान चल देंगे।
अंकल सेम कहेगा कि अपने सैन्य हवाई अड्डे हमारे लिए खोल दो तो ये बिछ बिछ जाएंगे।
अंकल सेम कहेगा कि कश्मीर तो ये पूरी घाटी को अशांत कर देंगे।
अगर अंकल सेम कहेगा कि अंबानी और अडानी की नकेल कसो तो ये फोरन मना कर देंगे। न भाई न! अपना भी जमीर है।

Comments

Popular posts from this blog

चौकीदार का स्विस एकाउंट

जब जब धर्म को ग्लानि होती है, मैं उसका उत्थान करने स्वयं आता हूं : ईश्वर

कहत कत परदेसी की बात- प्रसंग पहेली का हल